हमारा लक्ष्य

31-Jul-2018

  • शिक्षा का एक राष्ट्रीय प्रणाली विकसित करना जिसके कारण युवा पुरुषों और महिलाओं की एक पीढ़ी का निर्माण करने में सहायता मिलेगी ।
  • हिंदुत्व के लिए प्रतिबद्ध हौ और देशभक्ति का जोश के साथ संचार ।
  • शारीरिक , मानसिक और आध्यात्मिक रूप पूरी तरह से विकसित ।
  • सफलतापूर्वक दिन जीवन - स्थितियों की चुनौतियों का सामना करने में सक्षम ।
  • गांवों , जंगलों, गुफाओं और मलिन बस्तियों में रहने वाले हमारे उन वंचित और बेसहारा भाइयों और बहनों को सामाजिक बुराइयों और अन्याय के बंधनों से मुक्त करवाना ।
  • इस प्रकार प्रति समर्पित , एक सामंजस्यपूर्ण, समृद्ध और सांस्कृतिक रूप से समृद्ध राष्ट्र के निर्माण के लिए योगदान कर सकते हैं ।


कर्मचारी कल्याण की योजनाओं का उद्देश्य

09-Jul-2017

कर्मचारी कल्याण की योजनाओं का प्रमुख उद्देश्य कर्मचारियों को विभिन्न प्रकार की सुविधाएं प्रदान करना है .जिससे उनमें कर्तव्यनिष्ठा , गुणवत्तापूर्ण शिक्षण तथा संस्था के प्रति समर्पण भाव में विस्तार होगा .

सामान्य नियम

1. अधोलिखित योजनाओं का लाभ केवल विद्यालय में कार्यरत नियमित कर्मचारियों को ही प्राप्त होगा .
2. विद्यालय की आर्थिक स्थिति अनुरूप न होने की स्थिति में इन योजनाओं को स्थगित भी किया जा सकेगा.
3. किसी कर्मचारी के शिक्षकीय कार्य एवं समर्पण भाव में कमी ,अथवा कार्य - व्यवहार संतोषजनक न पाये जाने पर समिति उस कर्मचारी को विद्यालय द्वारा लागू की गई सभी या कुछ योजनाओं के लाभ से वंचित करेगी .
4. विद्यालय में स्थानांतरित कर्मचारियों के दो वर्ष के निरीक्षण काल के उपरांत ही उन्हे किन योजनाओं का लाभ दिया जावे इस पर समिति अलग से निर्णय लेगी .
5. समस्त विशेष योजनाओं, ऋणयोजनाओं तथा कुछ अन्य योजनाओं का लाभ विद्यालय के उन सभी पूर्व कर्मचारियों को इस विद्यालय मे स्थानांतरण पर देय नहीं होगा (a) जिनके इस विद्यालय से स्थानांतरण संस्था हित में किए गए थे ,तथा (b) जिनका पूर्व में इस विद्यालय में प्रशिक्षु आचार्य के रूप में नियमितिकरण नहीं हो पाया था.
विद्यालय में कर्मचारी कल्याण की निम्न तीन प्रकार की योजनाएं होंगी 
(अ) सामान्य योजनाएं 
(ब) विशेष योजनाएं
(स) ऋण योजनाएं 

(अ) सामान्य योजनाएं

इन योजनाओं का लाभ इस विद्यालय में कार्यरत सभी कर्मचारियों को समान रूप से बिना किसी भेदभाव (वरिष्ठता आदि) के दिया जावेगा , जब तक की नियमों में अन्यथा न दिया गया हो | 
1. वेश आदि कर्मचारियों को वर्ष में दो बार क्रमशः गुरुपूर्णिमा उत्सव पर एवं गोलवलकर जयंती कार्यक्रम पर वेश दिए जावेंगे . यदि किसी कारण कार्यक्रम नहीं मनाये जाते है , तब वेश देय नहीं होगा अन्य ऋतु परिवर्तन पर विद्यालय का कार्य बाधित न हो इस हेतु कर्मचारियों को ठंड में इनर, स्वेटर, मफलर ,विद्यालय कक्ष के लिए जूते - मोजे आदि तथा वर्षा ऋतु में छाता, रेनकोट इत्यादि दिए जावेंगे | 
2.अवकाश इस बाबत परिषद द्वारा अनुमोदित सामान्य नियम लागू होंगे. अवकाश कर्मचारी को दी गई एक सुविधा है,न कि उनका अधिकार .अतः उन्हें अत्यावश्यक होने पर तथा पूर्व स्वीकृति पर ही मान्य किया जावेगा 
3. परिवार कल्याण योजनाएं कर्मचारी की संस्था के प्रति निष्ठा एवं समर्पण भाव में परोक्षरूप से उनके परिवार का भी बड़ा सहयोग होता हैं ,यह सर्वमान्य तथ्य है . इसे ध्यान में रखकर निम्न पांच योजनाओं को अंगीकार किया जाता है :- 
(क) छात्रवृत्ति : कर्मचारियों के बच्चों को अध्ययन एवं स्वाध्याय के प्रति अभिरुचि उत्पन्न हो इस हेतु उन सभी शालेय कक्षाओं (कक्षा अरुण से द्वादश तक के बच्चों को वार्षिक परीक्षा में उत्तीर्ण होने पर प्राप्तांकों के आधार पर प्रतिवर्ष छात्रवृति दी जावेगी, जिससे उनकी अभिरुचि पठन - पाठन में बढ़ सके. कर्मचारियों के बच्चों को प्रोत्साहित करना ही छात्रवृत्ति का वास्तविक लक्ष्य है. छात्रवृत्ति योजना वार्षिक परीक्षा परिणाम 2011 से मान्य की जाती है .छात्रवृत्ति (की राशि शालेय शिक्षा शैक्षणिक स्तर पूर्व प्राथमिक , प्राथमिक , माध्यमिक , हाईस्कूल एवं हायर सेकेण्डरी के प्राप्तांको के आधार पर तालिका के अनुसार होगी | 

शैक्षणिक स्तर 80% या अधिक 60% या अधिक 45% या अधिक 45% से कम
हायर सेकेण्डरी कक्षा 11 एवं 12 4,000/- 3,000/- 2,000/- 1,000/-
हाईस्कूल कक्षा 9 एवं 10 3000/- 2,000/- 1,000/- 5,00/-
माध्यमिक कक्षा 6, 7 एवं 8 2,000/- 1,500/- 1,000/- 5,00/-
प्राथमिक कक्षा 3, 4 एवं 5 1,500/- 1,00/- 7,50/- 500/-
प्राथमिक कक्षा 3, 4 एवं 5 1,500/- 1,00/- 7,50/- 500/-


विद्यालय द्वारा अनुशंसित योजनाएं

09-Jul-2017

माधव शिक्षा समिति , संचालक सरस्वती शिशु मंदिर रमझिरिया ,सागर की समिति स्वेच्छा से इस विद्यालय के मूल कर्मचारियों के कल्याण की दृष्टि से नई-नई योजनाएं बनाकर उन्हे लागू करना चाहती है .यहां पर रेखांकित की गई योजनाओं की समीक्षा 10 वर्ष में अथवा आवश्यकतानुसार उसके पूर्व की जावे जिससे कल्याण की योजनाओं का अधिकतम लाभ कार्यरत कर्मचारियों को मिल सके . माधव शिक्षा समिति के सदस्यों, पदाधिकारियों तथा अन्य अधिकारियों एवं उनके घर के बच्चों को इन योजनाओं का लाभ कभी नहीं दिया जावेगा |


परिषद द्वारा अनुशंसित योजनाएं

09-Jul-2017

सरस्वती शिक्षा परिषद द्वारा अनुशंसित कर्मचारी कल्याण की सभी योजनाएं रमझिरिया विद्यालय में प्रारंभ से ही लागू हैं - 
1. कर्मचारी भविष्य निधि योजना - कर्मचारी भविष्य निधि संगठन सागर के नियमानुसार 
2. कर्मचारी परिवार पेंशन योजना - कर्मचारी भविष्य निधि संगठन सागर के नियमानुसार 
3. कर्मचारी समूह बीमा योजना - भारतीय जीवन बीमा निगम जबलपुर एवं सरस्वती शिक्षा परिषद् जबलपुर के नियमानुसार 
4. ग्रुप ग्रेच्युटी बीमा स्कीम - भारतीय जीवन बीमा निगम जबलपुर एवं सरस्वती शिक्षा परिषद् जबलपुर के नियमानुसार 
5 अर्जित अवकाश-नगदीकरण - सरस्वती शिक्षा परिषद जबलपुर के नियमानुसार 
6. प्राचार्य,प्रधानाचार्य आवास भत्ता - सरस्वती शिक्षा परिषद जबलपुर के नियमानुसार 


ग्रीष्मकालीन शिक्षण

07-Jul-2017

ग्रीष्म अवकाश में विद्यालय में वैदिक गणित , अंग्रेजी स्पेाकन एवं ग्रामर , कम्प्यूटर शिक्षण हस्तकला , चित्रकला , संगीत , रांगोली , मेंहदी , संस्कृत संभाशण , इत्यादि विषयों की विषेश कक्षाएं एवं शिविर समर कैम्प इत्यादि कार्यक्रम हर वर्ष आयोजित किए जाते है। जिसकी जानकारी विद्यालय कार्यालय एवं बेबसाइट से प्राप्त की जा सकेगी।


शुल्क संबंधी जानकारी

07-Jul-2017

प्रवेश शुल्क के अतिरिक्त कक्षावार निर्धारित मासिक शिक्षण शुल्क , वाहन शुल्क , एवं परीक्षा शुल्क देय होता है । जिसका भुगतान निर्धारित समय पर किया जाना आवष्यक है। शुल्क संबंधी जानकारी विद्यालय कार्यालय , सूचना पटल अथवा विद्यालय की बेबसाइट से प्राप्त की जा सकेगी।


पाठय पुस्तक

07-Jul-2017

1. कक्षा प्रथम से कक्षा दशम तक पाठय पुस्तकें मध्यप्रदेश पाठयपुस्तक निगम राज्य शिक्षा केन्द्र भोपाल से मुद्रित बाजार से क्रय करें। 
2. विद्याभारती से संचालित पाठयक्रम की पुस्तकें एवं सामग्री विद्यालय वस्तु भण्डार से प्राप्त करें ।
3. कापियों एवं अभ्यास पुस्तिकाओं की सूची विद्यालय सूचना पटल अथवा विद्यालय की बेबसाइट www.ssmramjhiriya.org से प्राप्त कर बाजार से क्रय करे।


विद्यालय वेश

07-Jul-2017

  • शिशु विभाग कक्षा अरूण एवं उदय
    भैया - चाकलेटी हाफ पेन्ट , लाल चेक की शर्ट , काले जूते लाल मौजे , बुधवार गुरूवार - सफेद हाफ पेन्ट , सफेद शर्ट , सफेद जूते सफेद मौजे बहिन - चाकलेटी टयूनिक , लाल चेक की शर्ट , काले जूते लाल मौजे , बुधवार गुरूवार - सफेद टयुनिक , सफेद शर्ट , सफेद जूते सफेद मौजे शीतकाल में - चाकलेटी स्वेटर , लाल टोपा या स्कार्फ
    प्राथमिक विभाग - कक्षा प्रथम से पंचम तक
    भैया - नीला नेवी ब्लू पेन्ट , सफेद शर्ट , काले जूते लाल मौजे , बुधवार गुरूवार - सफेद पेन्ट , सफेद शर्ट , सफेद जूते सफेद मौजे बहिन - नीला नेवी ब्लू टयूनिक , सफेद शर्ट , काले जूते लाल मौजे , बुधवार गुरूवार - सफेद टयुनिक , सफेद शर्ट , सफेद जूते सफेद मौजे शीतकाल में - लाल स्वेटर , लाल टोपा या स्कार्फ
    माध्यमिक विभाग - कक्षा शर्ट से अश्टम तक
    भैया - खाकी पेन्ट , सफेद शर्ट , काले जूते खाकी मौजे , बुधवार गुरूवार - सफेद पेन्ट , सफेद शर्ट , सफेद जूते सफेद मौजे बहिन - आसमानी स्काईब्लू कुर्ती , सफेद सलवार , सफेद चुनरी काले जूते सफेद मौजे , बुधवार गुरूवार - सफेद कुती , सफेद सलवार ,सफेद चुनरी ,सफेद जूते सफेद मौजे शीतकाल में - लाल स्वेटर , लाल टोपा या स्कार्फ
    हाईस्कूल विभाग - कक्षा नवम से दशम तक
    भैया - स्मोक ग्रे पेन्ट , सफेद शर्ट , काले जूते स्मोक ग्रे मौजे , बुधवार गुरूवार - सफेद पेन्ट , सफेद शर्ट , सफेद जूते सफेद मौजे बहिन - स्मोक ग्रे कुर्ती , सफेद सलवार , सफेद चुनरी काले जूते सफेद मौजे , बुधवार गुरूवार - सफेद कुर्ती , सफेद सलवार ,सफेद चुनरी ,सफेद जूते सफेद मौजे शीतकाल में - नीला नेवी ब्लू स्वेटर , नेवी ब्लू टोपा या स्कार्फ


प्रवेश संबंधी निर्देश एवं सूचनाएं

07-Jul-2017

नवीन शैक्षणिक सत्र में शिक्षण एवं प्रवेश संबंधी निम्न सूचनाओं पर ध्यान देने का कष्ट करें ।

  • कक्षा अरूण से कक्षा दशम तक नवीन प्रवेश प्रारंभ है।
  • प्रवेश हेतु प्रवेश फार्म शुल्क रू. 50/- जमा कर विद्यालय कार्यालय से प्राप्त करें |
  • प्रवेश फार्म से भी डाउनलोड कर पूर्ण भरकर शुल्क रू. 50/- सहित विद्यालय कार्यालय में जमा करें।
  • कक्षा उदय उत्तीर्ण भैया बहिनों का प्राथमिक की कक्षा प्रथम, कक्षा पंचम उत्तीर्ण भैया बहिनों का माध्यमिक की कक्षा षष्ठ एवं कक्षा अष्टम उत्तीर्ण भैया बहिनों का हाईस्कूल की कक्षा नवम में पुनः प्रवेश होगा । पुनः प्रवेश हेतु नवीन प्रवेश फार्म भरकर पुनः प्रवेश शुल्क सहित विद्यालय कार्यालय में जमा करें।
  • विद्यालय कार्यालयीन समय

    1. दिनांक 15 जून से 15 अप्रैल तक प्रातः 9.30 बजे से सायं 4.30 बजे तक 
    2. दिनांक 16 अप्रैल से दिनांक 14 जून तक प्रातः 8.00 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक 
  • प्रवेश संबंधी अभिलेख
    1. पूर्ण प्रविष्टियों सहित प्रवेश आवेदन फार्म 
    2. पिछली कक्षा उत्तीर्ण की अंकसूची की फोटो कापी 
    3. भैया बहिन का जन्मतिथि प्रमाण पत्र 
    4. दो फोटो पासपोर्ट साइज 
    5. स्थानांतरण प्रमाण पत्र की मूल प्रति 
    6. जाति प्रमाण पत्र की फोटो कापी
  • प्रवेश चयन परीक्षा

    नवीन प्रवेश सभी कक्षाओं में चयन परीक्षा के आधार पर दिए जावेंगे । चयन परीक्षा में मुख्यतः भैया - बहिन के बौद्धिक स्तर एवं मानसिक विकास स्तर का परीक्षण किया जावेगा.


इतिहास

07-Jul-2017

स्वाधीनता प्राप्ति के उपरांत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक परमपूज्यनीय माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर गुरूजी ने भारतीय वातावरण के अनुकूल संस्कारक्षम शिक्षण पद्धति विकसित करने का विचार किया। इस हेतु 1952 ई में गोरखपुर में प्रथम सरस्वती शिशु मंदिर की स्थापना हुई। मध्यप्रदेश में रीवा नगर में सन 1959 ई में प्रदेश का पहला सरस्वती शिशु मंदिर प्रारंभ किया गया ।प्रबंधन एवं मार्गदर्शन की दृष्टि से 1977 ई में विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षण संस्थान नई दिल्ली की स्थापना की गई एवं महाकौशल प्रांत में सरस्वती शिक्षा परिषद महाकौशल प्रांत जबलपुर की स्थापना की गई।

डॉ हरिसिंह गौर जैसे महानशिक्षाविद की जन्मभूमि एवं लाखा बंजारा की त्यागभूमि सागर नगर के सिविल लाईंस , रमझिरिया क्षेत्र में भी एक विद्यालय प्रारंभ करने की योजना बनाई गई। प्रो प्रभाकर राव पाटणकर , श्री अरूण जी पलनिटकर , प्रो . अविनाश जी अडोणी एवं श्री नचिकेता भावे ने विचार विमर्ष कर जुलाई 1993 ई में सिविल लाइंस क्षेत्र में रमझिरिया सरस्वती शिशु मंदिर सिविल लाइन सागर की नींव डाली । विद्यालय के प्रबंधन एवं संचालन हेतु राष्ट्रऋषि गुरू गोलवलकर गुरूजी के नाम पर माधव शिक्षा समिति की स्थापना 29 अक्टूबर सन 1993 ई. में की गई।

प्रारम्भ में विद्यालय में 03 कक्षाएं एलकेजी , यू के जी एवं प्रथम प्रारंभ की गई। जो प्रतिवर्ष कर्मश: एक कक्षा वृद्धि होते हुए आज हाईस्कूल की कक्षा 10 वीं तक संचालित है। इस संस्था के प्रथम नियमित प्रधानाचार्य श्री नरेन्द्र जी ठाकरे बने एवं प्रथम नियमित आचार्य वर्तमान प्राचार्य श्री सुरेन्द्र जी जैन बने । अपने उत्कृष्ट षिक्षण के कारण यह विद्याभारती द्वारा घोषित ‘आदर्ष विद्यालय’ है । विद्यालय प्रबंध समिति ने 1996 ई में विश्वविद्यालय की तलहटी में स्थित शासकीय पालीटेक्निक कालेज के सामने रमझिरिया क्षेत्र में भूमिक्रय कर विशाल विद्यालय भवन का निर्माण कराया । 1993 ई. से ही शिक्षा के क्षेत्र में नए कीर्तिमान रचता हुआ रमझिरिया प्रकल्प एक शैक्षिक शोध संस्थान जैसा विकसित हुआ है ।

वर्ष 1999 ई की प्राथमिक प्रमाण पत्र परीक्षा की जिला प्रावीण्य सूची में कक्षा 5 वी में अध्ययनरत 36 भैया - बहिनों में से 17 भैया बहिन ने प्रावीण्य सूची में स्थान अर्जित कर शिक्षा के क्षेत्र में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया। तब से प्रतिवर्ष कक्षा 5 वी एवं 8वीं की प्रावीण्य सूची में इस संस्था के भैया बहिनों ने लगातार अपनी जोरदार उपस्थिति दर्ज कराई।हाईस्कूल परीक्षा परिणाम 2012 (विद्यालय में कक्षा 10 वीं का प्रथम बैच ) का परीक्षा परिणाम शत प्रतिशत रहा , कक्षा में अध्ययनरत 53 विद्यार्थियों में से 49 प्रथम श्रेणी में,एवं शेष 04 द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए , इनमें से 29 भैया बहिनों ने 75 प्रतिशत से अधिक अंक अर्जित किए ।

शारीरिक , खेलकूद , बौद्धिक ,विज्ञान मेला ,विज्ञान माडल्स ,आचार्य शोध पत्र जैसी विधाओं में इस विद्यालय के भैया बहिनों एवं आचार्यों का सतत गौरवशाली परिणाम रहा है। प्रतिवर्ष अखिल भारतीय स्तर की राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में विद्यालय के भैया बहिनों का सराहनीय प्रदर्शन रहता है।

शिक्षण हेतु विद्यालय में निरंतर शिक्षण शोध कार्यशालाएं संचालित रहती है। विद्यालय के सभी षिक्षक कम्प्यूटर शिक्षण गतिविधि आधारित शिक्षण ,एवं क्रिया आधारित शिक्षण में प्रषिक्षित है।

संस्था में क्रीड़ा उद्यान , साइंस पार्क , 60 कम्प्यूटरों से युक्त कम्प्यूटर प्रयोगषाला , मल्टीमीडिया एजुकेषन सिस्टम ,गणित ,भौतिकी , रसायनषास्त्र , जीवविज्ञान की विषयवार पृथक - पृथक प्रयोगशालाएं हैं । शिशु कक्षाओं के उत्तम शिक्षण हेतु उनके कक्षा कक्ष में ही शिशु वाटिका एवं प्रयोगषाला स्थापित की गई है।


खेल

07-Jul-2017

खेल में छात्र - छात्राओं भागीदारी से न केवल उनकी शारीरिक विकास के लिए उत्तम है बल्कि टीम भावना को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक है | इसलिए विद्यालय विभिन्न आयु समूहों के लिए विभिन्न खेलों को बढ़ावा देकर प्रत्येक बच्चे के स्वस्थ विकास को सुनिश्चित करता है | खेल के लिए विद्यालय क्रिकेट, हॉकी, फुटबॉल, वॉलीबॉल, बास्केट बॉल, खो-खो, कबड्डी इत्यादि के लिए सुविधाएं उपलब्ध करा रहे हैं. साथ ही साथ इन्डोर गेम्स के लिए टेबल टेनिस, बैडमिंटन, शतरंज, कैरम इत्यादि सुविधाएं उपलब्ध करा हैं|


सह पाठयक्रम गतिविधियाँ

07-Jul-2017

सह पाठयक्रम गतिविधियाँ मन की विभिन्न विकास के लिए आवश्यक हैं | विद्यालय शिक्षाविदों के साथ सह पाठयक्रम को एकीकृत कर हमारे विद्यार्थियों के लिए सबसे सुखद के शिक्षण गतिविधियाँ बनाने के लिए निरंतर प्रयासरत है | सह पाठयक्रम गतिविधियाँ नियमित रूप से हमारे विद्यालय द्वारा आयोजित की जाती हैं | जिसमें संगीत (मुखर और वाद्य) , नाटक, वाद - विवाद , तात्कालिक वाद - विवाद , कला एवं शिल्प, नृत्य, ड्राइंग, पेंटिंग, फोटोग्राफी, बागवानी,प्रिंटिंग, अंग्रेजी , व्यतित्व विकास एवं सुलेख इत्यादि सम्मिलित हैं | हम यह सुनिश्चित करतें हैं की प्रत्येक बच्चे को अवसर मिले ताकि शिक्षकों सक्षम एवं उनकी देखरेख छात्र - छात्राओं का समग्र विकास हो |


गतिविधियाँ

07-Jul-2017

सभी बच्चों के समग्र विकास के लिए, केवल पुस्तकों का अध्ययन ही पर्याप्त नहीं है | एक बच्चा एक निष्क्रिय बीज के समान होता है | यदि बीज को अनुकूल परिस्थितियाँ मिलेंगी तभी वह विकसित होगा और एक बड़ा पेड़ बनेगा | हमारे विद्यालय छात्र - छात्राओं सर्वांगीण विकास के लिए उनके के लिए अनुकूल परिस्थितियों प्रदान करता है | विद्यालय हर बच्चे एक मंच की तरह है जहां वह शिक्षकों से दिशा निर्देश प्राप्त करतें हैं |


अतिरिक्त कक्षाएं

07-Jul-2017

विद्यालय द्वारा समय-समय पर आवश्यकतानुसार विभिन्न विषयों हेतु अतिरिक्त कक्षाएं भी उपलब्ध कराई जाती हैं |


छात्र दैनान्दिनी

07-Jul-2017

छात्र दैनान्दिनी पुस्तिका वह माध्यम है जिसके द्वारा माता पिता और शिक्षकों को एक दूसरे के साथ संपर्क में रहते हैं | यह माध्यम है जिसके द्वारा माता पिता को विद्यालय के नियमों, विद्यालय की गतिविधियों आदि की सूचनाएँ प्राप्त होती हैं | माता पिता / अभिभावक अपने बच्चों को दिन पर दिन प्रगति के संपर्क में रहते हैं | 


प्रयोगशालायें

07-Jul-2017

विद्यालय के पास छात्र – छात्राओं की प्रतिभा, कौशल विकास और तर्कसंगत सोच को बढ़ावा देने और अच्छी तरह से सीखने के लिए पूर्णतः सुसज्जित जीव-विज्ञान, भौतिकी, रसायन-विज्ञान, भूगोल और कम्प्यूटर साइंस विषयों के लिए आधुनिक प्रयोगशालायें उपलब्ध हैं |कंप्यूटर का अनिवार्य प्रशिक्षण छात्रों को दिया जाता है | ताकि कोई छात्र कभी भी इस कंप्यूटर युग में अपने आप को असहज एवं पिछड़ा महसूस न करे | कंप्यूटर लैब में अंग्रेजी, गणित, योगा, शारीरिक शिक्षा, विज्ञान जैसे विषयों इत्यादि पर ऑडियो/वीडियो सीडी पर दृश्य सामग्री उपलब्ध हैं | विद्यालय के पास 60 कम्प्यूटरों से युक्त कम्प्यूटर प्रयोगशाला और मल्टीमीडिया एजुकेशन सिस्टम है, कम्प्यूटर प्रयोगशाला में इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध है |

 


क्रीड़ास्थल

07-Jul-2017

विद्यालय का अपना सुसज्जित क्रीड़ास्थल/खेल का मैदान है | साथ ही साथ इन्डोर गेम्स के लिए भी सुविधाएं उपलब्ध हैं |

 


पुस्तकालय

07-Jul-2017

हमारे पास एक विशाल और सुसज्जित पुस्तकालय है | जो एक लंबे समय से छात्र - छात्राओं के लिए ज्ञान निर्माण के साथ ही साथ शिक्षण स्टाफ के लिए एक संसाधन के रूप में भी कार्य करता है | हमारा मानना है कि अच्छी किताबें मनुष्य के आत्म विकास के लिए अति आवश्यक हैं | इसलिए हमारे पुस्तकालय में अच्छी पुस्तकों, पत्रिकाओं, समाचार पत्रों इत्यादि का संग्रह है | जो सदैव ही छात्र – छात्राओं, शिक्षण स्टाफ एवं कर्मचारियों के लिए उपलब्ध रहतीं हैं |

 


बस

07-Jul-2017

विद्यालय के पास 4 बसों का बेड़ा है | जिन्हें आवश्यकतानुसार बढ़ाया भी जा सकता है | बस सुविधा शहर और आसपास के क्षेत्रों के लिए उपलब्ध है |


विद्यालय

07-Jul-2017

सुविधाएं

सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल में बहुत तरह की सुविधाएं उपलब्ध हैं | हमारा प्रयास यही है कि हम अपने छात्र - छात्राओं को शिक्षा क्षेत्र में उपलब्ध नवीनतम तकनीक, सामग्री एवं सुविधाएँ प्रदान करें | शिक्षण हेतु विद्यालय में निरंतर शिक्षण शोध कार्यशालाएं संचालित रहती है। विद्यालय के सभी शिक्षक कम्प्यूटर शिक्षण गतिविधि आधारित शिक्षण ,एवं क्रिया आधारित शिक्षण में प्रशिक्षित है। संस्था में क्रीड़ा उद्यान , साइंस पार्क , 60 कम्प्यूटरों से युक्त कम्प्यूटर प्रयोगशाला , मल्टीमीडिया एजुकेशन सिस्टम ,गणित ,भौतिकी , रसायनशास्त्र , जीवविज्ञान की विषयवार पृथक पृथक प्रयोगशालाएं हैं । शिशु कक्षाओं के उत्तम शिक्षण हेतु उनके कक्षा कक्ष में ही शिशु वाटिका एवं प्रयोगशाला स्थापित की गई है। हमारे छात्र - छात्राओं के लिए उपलब्ध सुविधाएँ निम्न सम्मिलित हैं |